WhatsApp Image 2024-04-02 at 11.08.56 PM
29
30
31
32
WhatsApp Image 2024-02-11 at 1.44.12 AM
0bfb0ce8-d486-4b0d-b441-d71ed666c3a4
38b9245b-2238-46b6-95ea-2fdf227d5b25
previous arrow
next arrow
WhatsApp Image 2024-04-02 at 11.08.56 PM
1
2
3
4
5
6
7
8
9
10
11
12
13
14
15
16
17
18
19
20
21
22
23
24
25
26
27
28
WhatsApp Image 2024-02-11 at 1.44.12 AM
previous arrow
next arrow

Breaking
सरकार के बजट से देश को मिलेगी नई उड़ान युवा वर्ग को सबसे ज्यादा मिलेगा लाभ तो स्लैब में छूट देकर मध्यम वर्ग को मिली राहत-नवीन पटेलआदर्श मुक्ति धाम मोती सागर पारा रो रहा अपनी बदहाली पर,गैस शव दाह मशीन का नही हो सका संचालन प्रारंभ,निगम और पार्षद की अनदेखी का शिकार6 दिवसीय एक्यूप्रेशर नेचुरल थेरेपी चिकित्सा शिविर कोरबा में।(.शोक संदेश.) कोरबा भाजपा जिला मीडिया प्रभारी मनोज मिश्रा के पिता डी.डी. मिश्रा का निधनकलेक्टर के निर्देशन में खाद व दवा दुकानों का किया जा रहा औचक निरीक्षणजम्मू के राजौरी में सेना पिकेट व वीडीसी सदस्य के घर पर आतंकियों ने ग्रेनेड से किया हमलाछत्तीसगढ़ सरकार की बड़ी पहल अब गरीब के बच्चे भी दिल्ली में करेंगे यूपीएससी की तैयारी।भाजपा बांकीमोगरा मंडल बैठक सम्पन्न हुई।कनकी धाम जाने में नही होगी परेशानी, उरगा पुलिस की तैयारी पूरी, थाना और चौकी प्रभारी ने जारी किया अपना निजी मोबाइल नंबर।बालको डीपीएस स्कूल के छात्र की लाश बाल्को के कुएं में मिली है।

KORBA

वन विभाग की बड़ी लापरवाही के चलते फिर से दर्जनों प्रवासी पक्षी गाज की चपेट में आने से मृत, 1 व्यपारी जिला अस्पताल में भर्ती है, एक तरफ कनकी को पर्यटन घोषित किया गया और दूसरी तरफ सुरक्षा के नाम अनदेखा किया जा रहा है ,


कोरबा तेज गरज के साथ हो रही बारिश के दौरान कनकेश्वर धाम, कनकी में 5 प्रवासी ओपन बिल स्टार्क पक्षियों की गाज की चपेट में आने से मौत हो गई।और मेला में आये 1 व्यपारी घायल है जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जिसकी हालात गंभीर बताई जा रही है।

करतला ब्लॉक के कनकेश्वर धाम में शिव मंदिर है, जिसके परिसर में स्थित पेड़ों पर हजारों पक्षी हर साल बारिश के ठीक पहले पहुंचते हैं। सावन महीने में यहां पहुंचने वाले श्रद्धालुओं के लिए ये पक्षी बड़ा आकर्षण होते हैं। प्रायः हर वर्ष गाज गिरने से इनमें से कई पक्षियों की मौत भी हो जाती है।

ग्रामीणों ने बताया कि वन विभाग की ओर से इन पक्षियों के संरक्षण के लिए कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। ग्रामीणों ने अपने प्रयास से पेड़ों के इर्द-गिर्द जाली लगाई थी लेकिन अधिकांश टूट चुकी है। तड़ित चालक लगाकर आकाशीय बिजली से होने वाले नुकसान से इनको बचाने का प्रयास पूर्व में किया गया था लेकिन यह भी अब टूट-फूट चुका हैं। वर्तमान में 1 तड़ित चालक लगाया गया है ,परन्तु तड़ित चालक महामाया मंदिर के शिखर पर लगा दिया गया है जिसके चलते प्रवासी पक्षियों के साथ मंदिर परिसर में और खतरा मंडरा रहा है ,

वन विभाग प्रवासी पक्षी ओपन बिल स्टार्क के संरक्षण और देख रेख में लापरवाही बरत रहे है जिसका ताजा उदाहरण आज रात देखने को मिला जिसमे एक व्यवसायी घायल और 5 प्रवसीय पक्षी मृत हो गए है

प्रवासी पक्षी यहाँ अपने वंश वृद्धि के लिए आती है अक्टूबर माह तक इनके बच्चे अंडे से निकल आते है और नवम्बर तक उड़ना सिख जाते है नवम्बर में प्रवसी पक्षी कनकी से चले जाते है


Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button